मुझे इश्क है तुम्ही से ❤️


दिल है,जज्बात है।
आरजू है,इल्तिज़ा है।
बस तेरा इज़हार करना बाकी है।
❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️
आग है,आगाज है।
धूप है,साँझ है।
बस तेरा मुझमे ढलना बाकी है।
❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️
रंग है,रूप है।
तेरी ही प्रतिरूप है।
मेरे रूह में अब पिघलना बाकी हैं।
❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️
इश्क़ है,बेहद है।
बेपनाह है,बेगरज है।
मेरे तसब्बुर में तेरा निखरना बाकी है।

2 Comments

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.