दिल के दर्द को हल्का कर दूं,हो गर इजाजत तुझे बुलबुला कर दूं,,

दिल के दर्द को हल्का कर दूं,हो गर इजाजत तुझे बुलबुला कर दूं,,वाष्प बना के उड़ा दूं तुझे मेरे मन के जलाशय से,मेघ को सूखकर यहां तपन लाने का इशारा…

जिंदगी

गुजरते गुजरते इक दिन गुजर जायेगी,जिंदगी जैसे तैसे गुजर जायेगी,,ये तपन,ये थकन, गुलिस्तां ए बदन,हर कहानी एक दिन अंत तक आ जायेगी,,ये तबस्सुम,ये तराने,ये मोहब्बत के फसाने,सब खत्म और जिंदगी…